कहाँ के शब्द..

प्रीत से शब्द.
जीत से शब्द.
हार से शब्द.
आभार से शब्द.
विरोधी से कुछ,
अधिभार से शब्द.

हँसते खिलते,
फूल से शब्द.
शूल से शब्द.
भूल से शब्द.
लोटते धरा में,
धूल से शब्द.

कच्चे मटर की,
फली से शब्द.
अलि से शब्द.
कली से शब्द.
मीठे गुड की,
डली से शब्द.

बेढब हों या,
कुशल बहुतेरे.
एक भी इनमे,
नहीं हैं मेरे.
अम्मा ने जब,
साँस भरी है.
निकले साँस की,
नली से शब्द.

2 टिप्पणियाँ:

VaRtIkA said...

:) uff avi..... maa ne sab aap pe nichavar kiyaa hogaa...aur ab aap sab unn par karte ahin... accha lagtaa hai.... :) baht pyaari rachnaa.... seedhi saral...aur phir bhi gehri....

Avinash Chandra said...

Nahi Vartika, is ka kaabil nahi main.
Maa ka diya hi sab hai, nichhavaw kar sake, santaan me itna saamarthya kabhi na tha na hoga.

Aap itni kavitaaon par aayin, itna waqt nikaal ke...thank u so much :)