ओजस्वी कर्ण....

रश्मिरथी था, महारथी था,
नहीं कर्ण अभिमानी था.
भान था उसको ही नियति का,
केशव तक से ज्ञानी था.

किये समाहित वक्ष के अंदर,
रखता था वह गरल समंदर.
सूतपुत्र का लांछन सहता,
गंगा माँ का पानी था.

आग लगाता अपने महल को,
चीर के देता स्वर्ण देव को.
दे सकता था वर जो माँ को,
इकलौता वो दानी था.

ब्रम्हा की नियति ना तोड़ी,
मित्र धर्म की लाज बचाने,
गाँठ सुयोधन से ना तोड़ी.
एक वही बस धनुपाणि था.

धो सकता था धरा लहू से,
स्वर्ग जीतना था संभव पर,
जिसने सब कुछ त्याग दिया,
प्रखर सूर्य वो बलिदानी था.

कूकर और श्रृगाल में बैठा,
कृष्ण के छल व्यवहार में बैठा.
शांतचित्त शार्दूल के जैसा,
अजब अनोखा वह प्राणी था.

आया छल के बीच धरा पर,
छल में ही प्रस्थान किया.
गांडीव की टंकार पर हरदम,
हँसे ठठा कर वो, वाणी था.

23 टिप्पणियाँ:

sangeeta swarup said...

अविनाश,

कर्ण के ऊपर लिखी सटीक रचना...एक एक छंद बहुत बढ़िया....

किये समाहित वक्ष के अंदर,
रखता था वह गरल समंदर.
सूतपुत्र का लांछन सहता,
गंगा माँ का वो पानी था.

वाह....शब्द दर शब्द जैसे मानस पर छाता हुआ.....तुम्हारी लेखनी ऐसी ही प्रखर रहे..

रश्मि प्रभा... said...

ojaswee karn ka chitra tumse behtar kaun khich sakta hai !

roohshine said...

Avinash...
behatreen shabd sanyojan ke saath itna sateek chitran tumhari hi kalam kar skati hai.. hamesha ki tarah abhibhoot hun tumhari rachna par..
God bless u
Di ..

Neeru said...

दे सकता था वर जो माँ को,
इकलौता वो दानी था.

..kitna bada sach kaha Avinash..:)

ब्रम्हा की नियति ना तोड़ी,
मित्र धर्म की लाज बचाने,
गाँठ सुयोधन से ना तोड़ी.
एक वही बस धनुपाणि था.

..hmm aur isi cheez ke liye Karn mera fav raha hai Mahabharat mein.aur aaj bhi hai.

कृष्ण के छल व्यवहार में बैठा.
शांतचित्त शार्दूल के जैसा,
अजब अनोखा वह प्राणी था.

sachmuch !
Krishn ji ne bas dharm k liye itna anyaay justified kar diya...yahi kadva sach hai jise sweeekarne ko mera man kabhi taiyyar ni hota..:(:(


आया छल के बीच धरा पर,
छल में ही प्रस्थान किया.

:(

गांडीव की टंकार पर हरदम,
हँसे ठठा कर वो, वाणी था.

........:):)
yeh baaaaaaaaat kahi laakh rupay waali.:):)
Jiyo Parshuraam shishya Karn..aur Avinash.....tum bhi..behtareen rachna hai...bahut achha laga man ko yeh sab padhkar.tumhari kalam se padhne ka aanand hi kuch aur hai..:)

Jeete raho :)

अनामिका की सदाये...... said...

अविनाश जी....कैसे हैं आप. आज आपके ब्लॉग तक पहुच कर बहुत ख़ुशी हुई और आज इतने दिनों बाद आपको पढ़ कर न जाने आपका कितना कुछ लिखा हुआ याद आ गया. आपकी कलम के वैसे ही हम बहुत बड़े पंखे है. और ये रचना वाह वाह बहुत ही उम्दा रचना है. एक फ्लो है आपके लेखन में. पढ़ कर बहुत अच्छा लगा.

Avinash Chandra said...

Sangeeta ji

Ashish tale rahe kalam bas... :)

Avinash Chandra said...

@Rashmi ji

mausi ji, mujhse behtar ..... to bahut hain.
kuchh likh saka aur aapne padha.. shukriya

Avinash Chandra said...

Mudita ji,

apka sneh mila itna hi bahut hai is rachna ke liye

Avinash Chandra said...

Taru Di...

Itna kuch aapne kah diya ki ab kya bolun??

Di ko thanks kahna janchega nahi... :) :) :)

Avinash Chandra said...

Anamika ji,

ek to itne dino baad aayin aap...
upar se Avinash ji???
Avinash nahi kah saktin aap?

Pankha sar ke upar ashish ban ke ghume yahi behtar hai :P

Aap aayin, tah-e-dil se shukriyaa

स्वप्निल कुमार 'आतिश' said...

waaaaaaaaaaaahhhhhhhhhhhhhhhhh ..pata hai avi kai bar to kuch shabd upar se nikal gaye..par flow itna achha tha ki main behta gaya..aur karn ka to main maha bhakt hun.. :)

Avinash Chandra said...

Shukriya Bhaiyaa

Ye vyaktitva hai hi bhakti aur anumodan ke laayak

संजय भास्कर said...

अविनाश जी....कैसे हैं आप. आज आपके ब्लॉग तक पहुच कर बहुत ख़ुशी हुई और आज इतने दिनों बाद आपको पढ़ कर न जाने आपका कितना कुछ लिखा हुआ याद आ गया.

संजय भास्कर said...

ग़ज़ब की कविता ... कोई बार सोचता हूँ इतना अच्छा कैसे लिखा जाता है

Avinash Chandra said...

Sanjay ji bahut sshukriya...par aap to aate hi raahte hain fir cut paste comment...samajh nahi aayi baat

रोहित said...

RASHMIRATHI padhne ke baad ye mera pehla mauka hai jab maine karn par koi dushri kavita padhi..
puchiye mat bhaiya kitna accha laga!
shabd kam pad jaate hain...

Avinash Chandra said...

shukriya Rohit

हरकीरत ' हीर' said...

गज़ब है आपकी कलम में ....
नीचे की क्षणिकाओं ने मन मोह लिया .....
कहाँ थे अब तक .....!?!

Avinash Chandra said...

Harkirat ji,

Yahin tha, aap aayin achchha laga :)
likhne ka prayas kar leta hun bas.
Aplog manobal badha dete hain

दिगम्बर नासवा said...

कर्ण के चरित्र को स्पष्ट करती बहतरीन रचना ..... लाजवाब ..

Avinash Chandra said...

aapkaa bahut bahut shukriya sir

Apanatva said...

karan ke charitr par prakash daaltee rachana badee hee sunder bhavo aur shavdo se susajjit hai .
Aabhar .

Avinash Chandra said...

Apnatva ji,

Bahut bahut dhanyawaad aapka